Mango Tree Information in Hindi- आम के बारे में रोचक जानकारी

Mango Tree Information in Hindi

हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में Mango Tree Information in Hindi मतलब की आम के पेड़ और आम के बारे में कुछ महत्वपूर्ण इनफार्मेशन को जानेगें! हम सभी को पता है की आम बहुत ही स्वादिष्ट फल है! लेकिन आम के बारे में कई ऐसी चीज़ है जो सभी को नहीं पता होती है! इस आर्टिकल में हम आम के पेड़ और इसके फल के बारे कुछ ऐसी ही चीजों के बारे में पढ़ेगें! मै उम्मीद करता हूँ की आपको Mango Tree Information in Hindi आपको पसंद आयेगा! यदि आपको About Mango Tree in Hindi पसंद आये तो इसको शेयर करना ना भूले!

Mango Tree Information in Hindi- आम के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

#1 आम विश्व में सबसे लोकप्रिय फल में से एक हैं!

#2 भारत में आम का पेड़ और उसके फल का सेवन 5,000 पहले से हो रहा है!


#3 आम की एक टोकरी भारत में दोस्ती का एक संकेत माना जाता है!


#4 प्रचीन ग्रन्थ के अनुसार गौतम बुद्ध में अपने साधना की शुरुवात एक आम के पेड़ के छाया के निचे से शुरु किया था!


#5 आम काजू और पिस्ता से संबंधित हैं!


#6 एक आम का पेड़ 100 फीट से भी ज्यादा लम्बा हो सकता है!


#7 छाल, पत्ते, त्वचा और आम के गड्ढे सदियों से लोक उपचार में इस्तेमाल किया गया है!


#8 आम के एक कप serving में 100 कैलोरी होता है!


#9 आम के फल में बड़े फैमाने पर बिटामिन C और D पाया जाता है!


#10 अमरीका में जो आप बेचे जाते है वह आम अधिकांश मात्रा में मेक्सिको, पेरू, इक्वाडोर, ब्राजील, ग्वाटेमाला और हैती से आते है!


#11 आम की बहुत सारी प्रजातियाँ होती है! मानव लगभग आम की 1,400 प्रजातिया के बारे में जानते है! इसके साथ साथ आम की अलग अलग देश में अलग अलग प्रजातिया भी होती है!


#12 दुनिया में सबसे ज्यादा आम भारत में पैदा होता है! पूरी दुनिया में जितने आम होते है उनमे से 12 प्रतिशत आम भारत में पैदा होते है!


#13 आम का उपयोग चटनी, खटाई, अचार, मुरब्बा जैसी चीज़े बनाने में भी किया जाता है!


इनको भी पढ़े- 
1- Essay On Mango Tree in Hindi- आम के पेड़ पर निबंध 
2- Essay on Save Trees in Hindi- पेड़ बचाओ पर निबंध
3- Essay On Neem Tree in Hindi-  नीम के पेड़ पर निबंध
4- Essay On Tree Our Best Friend in Hindi- पेड़ हमारे सच्चे दोस्त हैं पर निबंध
5- Apple Tree Information in Hindi- सेब से जुडी रोचक जानकारियाँ

मै उम्मीद करता हु की आपको Mango Tree Information in Hindi पसंद आया होगा! यदि आपको ये About Mango Tree in Hindi पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले!

प्रिय मित्रो यदि आपके पास भी Mango Tree Information in Hindi से related कोई इनफार्मेशन हो तो आप उस इनफार्मेशन को मेरे पर्सनल ईमेल पर भेज सकते है!. हम आपके उस इनफार्मेशन को आपके नाम और फोटो के साथ अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे!


Search Tag- mango tree info in hindi, mango tree uses in hindi, mango tree in hindi essay, information of mango tree in hindi, uses of mango tree in hindi, aam ka ped in hindi essay, aam ka ped in hindi essay, aam ke ped ki atmakatha in hindi, few lines on mango tree in hindi, aam ki atmakatha in hindi, aam ke ped ke baare mein, aam ke baare mein 5 line, 5 sentences about fruits in hind, fact about mango tree in hindi

Importance Of Trees in Hindi | वनों की उपयोगिता पर निबंध


 Importance-Of-Trees-in-Hindi


हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में importance of trees in hindi मतलब की वनों की उपयोगित के बारे में पढेंगे! इस आर्टिकल को हम आपके साथ essay on importance of trees in hindi मतलब की वनों के बारे में एक निबंध के रूप में प्रस्तुत करेगें! हर एक वृछ मानव का दोस्त होता है! वृछ मानव के हर एक जगह पर सहायता करता है! अगर आज दुनिया में वृछ ना होते तो शायद दुनिया की शुरुवात ही नहीं होती! हमारे प्राचीन ग्रन्थ में भी वृछ के गुणों के बारे में बिस्तर के साथ बताया गया है! आज का हमरा ये विज्ञानं भी ये मनाता है की वृछ के बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है! 

 Importance Of Trees in Hindi | वनों की उपयोगिता पर निबंध-


महावीर बुद्ध को एक पीपल के पेड़ के निचे ही ज्ञान की प्राप्ति हुई थी! आज का विज्ञानं ये साबित कर चूका है की सबसे ज्यादा प्राणवायु पीपल के पेड़ से ही मिलता है! चुकी महावीर बुद्ध को एक पीपल के पेड़ के निचे ही ज्ञान की प्राप्ति हुई थी! इसलिए लोग आज पीपल के पेड़ की पूजा करते है!  पीपल के पेड़ की पूजा करने के और भी कई कारण है! प्राचीन ग्रन्थ के नुसार तुलसी के मूल में तो भगवान बिष्णु का वाश माना जाता है! इसलिए भारत में तुलसी के पेड़ की भी पूजा की जाती है! इंडिया के हर एक हिन्दू के घर में तुलसी का पेड़ जरुर मिलता है! 

हर हिन्दू घर के लोग रोज सुबह सुबह तुलसी के पेड़ की पूजा करके ही अपने दिन की शुरुवात करते है! उसके अनुसार ऐसा करना बहुत शुभ होता है! और ऐसा करने से उनका पूरा दिन सुख और शांति के साथ गुजरता है! तुलसी का पत्ता और इसके बीज बहुत से उपचार में भी काम आते है! बहुत से लोग तुलसी के पत्ते और बीज तरह तरह की बीमारियों को ठीक करने के लिए करते है! ठीक इसी प्रकार अशोक पेड़ की छाल और पत्तियाँ से भी बहुत तरह की दवाइया बनायीं जाती है! और बहुत से पेड़ है जो हमारे बहुत से बीमारियों को ठीक करने में काम आते है! अगर बात की जाये नीम की तो नीम के बारे में कहना है की नीद की उपयोगिता को हम गिन रही सकते है! क्योकि नीम से होने वाले फायदों को हम गिन रही सकते है! नीम का रस , गोंद, पत्ती, फल , बीज और तना सभी उपयोगी है! और इन सभी का उपयोग अलग अलग जगह पर अलग अलग तरीके से किया जाता है! नीम के बारे में एक कहानी बहुत पापुलर आपको भी इस कहानी को जानना चाहिये! 


यूनान देश के वैध ने भारतीय वैध की परीक्षा लेनी चाही! और यूनान देश  के वैध ने भारतीय वैध के पास अपना एक दूत भेजा! और पत्र में लिखा " श्रीमान मै एक कुष्ठ रोगी को भेज रहा हु! आप इसको ठीक करके वापस भेज दे! भारतीय वैध इसका उत्तर देकर दूत को वापस भेज दिया! और कहा की रास्ते में तुमको जहा जहा नीम का पेड़ दिखाई दे उसके छाये में आराम कर लेना! और नीम की पत्ती और उसके छाल को काढ़ा पीना और नीम के जल से स्नान करना! कुछ समय के बाद यूनानी दूत अपने वैध के सामने उत्तर के साथ आया! भारतीय वैध ने यूनानि वैध के उत्तर में लिखा " मै आपको एक स्वस्थ ब्यक्ति भेज रहा हु! सुचमुच यूनानी वैध के सामने के स्वस्थ ब्यक्ति खड़ा था! ये सब देखने के बाद यूनानी वैध को नीम के गुणों के बारे में पता चला! इसलिए नीद के बारे में काह गया है की सभी बीमारियों की सिर्फ एक दवा..


इस प्रकार हम कह सकते है की सभी वन संपदा से मानव को लाभ होता है! फलदार पेड़ मानव के लिए वरदान है! शाकाहारी भोजन फलो के बिना पूरा नहीं माना जाता है! इसलिए हमको पेड़ के उपयोगिता को समझना होगा! आम , अमरुद , अंगूर और केले के मिठास से भला कोण परिचित नहीं है! पेड़ से ही अच्छी बारिश होती है! अगर पेड़ ना होते तो शायद बारिश भी ज्यादा ना होती! पेड़ की वजह से की भूम की की उर्बरता बढती है! पेड़ की वजह से ही हमारे वायु का प्रदुषण कम होता है! इस दुनिया में कागज़ की शुरुवात पेड़ से हुई थी! पहले कागज बांस से बनाये जाते थे! इसके साथ साथ घर अपर फटनिचार आदि चीज़ बनाने में भी लकड़ी का उपयोग किया जाता है! इस प्रकार मानव के जन्म और मौत तक पेड़ उसका साथी है! 


आज के समय में इस दुनिया में मानव अपनी जरूरत को पूरा करने के लिए वृछ की अन्धाधुन कटाई कर रहे है! इससे इस दुनिया में वृछ के प्रतिशत में बहुत कमी आती ja रही है! अकड़े के अनुसार इस पृथ्बी पर पुरे ३३% वन रहना चाहिये! लेकिन आज के समय में ये प्रतिशत बहुत तेजी से कम होता जा रहा है! मानव जनसख्या में वृद्धि , कारखानों और वाहनों से निकलने वाले खतरनाक धुएं से वनों में कमी आ रही है! जिससे हमारा पर्यवरण प्रदूषित हो रहा है! जो हमारे लिए अच्छा संकेत नहीं है! आज हम सबको पता है की पृथ्बी का तापमान कितनी तेजी से बढ़ रहा है! सबसे अधिक खतरे की बात ये है की ओजोन की परत में बहुत तेजी से कमी आ रही है! 


आपको इस बात को भी मानना होगा की यदि इस दुनिया में वन नहीं होंगे तो इस दुनिया का पक्का विनाश हो जायेगा! वन के बिना इस दुनिया का कोई वजूद नहीं है! इसलिए इस दुनिया को जिन्दा रखने के लिए हमको वनों और जंगलो को जिन्दा रखना होगा! एक आदमी अपने सास के द्वारा बहुत ही जहरीला गैस को छोड़ता है! जब वह जहरीला गैस हमारे मुह से निकालता है उसके बाद उस जहरीले गैस को पेड़ अपने अंदर ले लेते है और उसके बदले में वह आक्सीजन गैस को छोड़ते है! उसी आक्सीजन गैस को हम अपने सास के रूप में ग्रहण करते है!


क्या आपने कभी इस बात के बारे में सोचा है की यदि हमारे इस सुंदर दुनिया में आक्सीजन गैस ना होता तो शायद बिना आक्सीजन के 2 मिनट भी नहीं जिन्दा रह सकते! वनों की अंधाधुन्द कटाई से हमारे दुनिया में आक्सीजन की बहुत तेजी से कमी आ रही है! इसलिए हम सबको मिलकर वनों की कटाई पर रोक लगाना होगा! वनों की कटाई पर रोक लगा कर इस सुंदर दुनिया को ऐसे ही सुंदर बनाये रखे!


इस समस्या से निपटने के सिर्फ और सिर्फ एक ही तरीका है की हम अधिक से अधिक पेड़ लगाये! ऐसा करने के लिए हमको हर सड़क के दोनों तरह पेड़ लगाना चाहिये! पेड़ लगाने वाले किसान को सरकार को अपना पूरा योगदान देना चाहिये! पेड़ लगाने वाले को सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता भी देनी चाहिये! हम सभी को मिलकर पेड़ लगाओ और देश बचायो का नारा देना चाहिये! और हम सभी को मिलकर पेड़ लगाने में अपना योगदान देना चाहिये! आपको भी पेड़ लगाने में अपना पूरा योगदान देना चाहिये! 


इनको भी पढ़े- 
1National Tree Of India in Hindi- भारत के राष्ट्रीय पेड़ 
2Apple Tree Information in Hindi- सेब से जुडी रोचक जानकारियाँ
3Essay On Tree Our Best Friend in Hindi- पेड़ हमारे सच्चे दोस्त हैं पर निबंध
4Essay On Neem Tree in Hindi-  नीम के पेड़ पर निबंध
5Essay on Save Trees in Hindi- पेड़ बचाओ पर निबंध

मै उम्मीद करता हु की आपको importance of trees in hindi पसंद आया होगा! यदि आपको ये importance of trees in hindi पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले!

प्रिय मित्रो यदि आपके पास भी essay on importance of trees in hindi के बारे में कोई और इनफार्मेशन हो तो उसको  मेरे पर्सनल ईमेल  [email protected] पर भेज ह दे!. हम आपके उस इनफार्मेशन को आपके नाम और फोटो के साथ अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे!


Tag- importance of trees in hindi essay, about importance of trees in hindi, slogan on importance of trees in hindi, poem on importance of trees in hindi, lines on importance of trees in hindi, quotes on importance of trees in hindi, save tree essay in hindi, an essay on importance of trees in hindi, a short essay on importance of trees in hindi

Essay on Ganga River in Hindi Language- गंगा नदी पर निबंध

Essay-on-Ganga-Riveri-n-Hindi-Language

हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में Essay on Ganga River in Hindi Language मतलब की गंगा नदी पर निबंध पढ़ेगें! गंगा नदी कई  मायने में हमारे लिए उपयोगी है! गंगा नदी हिमालय से निकाल कर हमारे भारत की भूमि को पवित्र करती है! आज इस आर्टिकल के माध्यम से मै आपको गंगा नदी पर एक निबंध पेश करूँगा! मै उम्मीद करता हूँ की आपको Ganga River Essay in Hindi  पसंद आयेगा! यदि आपको Ganga River Essay in Hindi Language पसंद आये तो इसको अपने दोस्तों और परिवार के साथ शेयर करना ना भूले! 

Essay on Ganga River in Hindi Language- गंगा नदी पर निबंध 

शायद ही भारत का कोई ऐसा ब्यक्ति होगा जिसने Ganga  नदी का नाम नहीं सुना होगा! Ganga भारत की एक बहुत ही पवित्र नदी है! गंगा नदी सबसे बड़े पर्वतमाला हिमालय में से निकलकर हमारे भारत कोई महत्वपूर्ण भूमि को अपने अनमोल जल से पवित्र करती है! गंगा नदी एक ऐसी नदी है जो निरंतर बहती रहती है! प्रचीन काल से ही गंगा नदी की लोग पूजा करते आ रहे है! हिन्दू ग्रन्थ के अनुसार यदि कोई ब्यक्ति गंगा नदी में जाकर स्नान कर ले तो उसके पुरे जीवन के पाप धुल जायेगें! गंगा नदी के किनारे पर बहुत से मंदिर की स्थापना की गयी है! हिन्दू ग्रन्थ में और भी बहुत से मान्यता Ganga  नदी के बारे में है!

Ganga नदी के बारे में बहुत कम लोगो को ये पता होगा की गंगा नदी को  भागीरथी के नाम से भी जाना जाता है! बहुत समय पहले की बात है की एक भागीरथी नाम के राजा थे! उस राजा के नाम पर ही गंगा नदी का नाम  भागीरथी पड़ा था! Ganga River  भारतीय संस्कृति के अनुसार भी बहुत उपयोगी है! हर एक दिन बहुत से लोग गंगा नदी में स्नान करने के लिए आते है! सभी लोग गंगा नदी को माता का दर्जा देते है! जब कोई ब्यक्ति मरता है तो लोग बहुत दूर दूर से उसकी अस्थिया लेकर गंगा नदी में बहाने के लिए आते है! लोगो का मत है की यदि किसी ब्यक्ति की अस्थिया को गंगा नदी में बहाया जाये तो उस ब्यक्ति की आत्मा को शांति मिलती ह! इसलिए लोग दूर दूर से मृत्य ब्यक्ति की अस्थिया लेकर गंगा नदी में बहाने के लिए आते है! 


गंगा नदी हिमालय पर्वत से निकलती है! हिमालय पर्वत से जो बर्फ पिघलता है उसी बर्फ से गंगा का पानी बहता है! Ganga River में पुरे साल तक पानी होता है! गंगा नदी में इसलिए पुरे साल तक पानी रहता है क्योकि हिमालय पर्वत से पिघलने वाले बर्फ गंगा नदी में आकर  गिरती है! Ganga River  का पानी बहुत से लोगो के लिए उपयोगी होता है! गंगा ने नदी के पानी से बहुत से कृषि अपना खेती बारी का काम करते है! इसलिए साथ साथ बहुत से ऐसे जानवर भी है जो पिने का पानी के लिए गंगा नदी का उपयोग करते है! हमारी सरकार गंगा नदी के पानी का उपयोग बिजली पैदा करने के लिए भी करते है! इन सभी चीजों के अलावा और भी बहुत से फायदे है! Ganga River  के! इस तरह से हम  कह सकते है की गंगा नदी हम सभी के लिए बहुत ही उपयोगी है! 


जब गंगा का जल हिमालय पर्वत से निकलता है तब ये जल बहुत ही  स्वच्छ रहता है लेकिन जब गंगा नदी का पानी शहरो से होकर दुसरे जगह पर जाता है! तब यही पानी बहुत ही ज्यादा प्रदूषित हो जाता है! Ganga River का पानी दिन प्रतिदिन बहुत ही तेजी से और गन्दा होता जा रहा है! गंगा नदी के पानी के  प्रदूषित होने के बहुत से कारण है! बहुत ऐसी बड़ी बड़ी फैक्ट्रिया और कारखाने है जिनका  कूड़ा-करकट गंगा नदी में बहुत ही बड़े फैमाने पर आता है! जिसके कारण गंगा नदी के  पानी में गंदगी हो जाती है! 


बहुत से ऐसे लोग भी है जो अपने घर का कूड़ा-करकट गंगा नदी में फेखते है! इसके साथ साथ लोग जानवरों को इसी गंगा नहीं में स्नान करवाते है! और उसका मल-मूत्र भी गंगा नदी में फेक देते है!  Ganga River आज दिन प्रतिदिन बहुत ही ज्यादा गन्दी होती जा रही है! और ये हम सब के लिए एक बहुत ही गंभीर समस्या है! भारत सरकार को गंगा को और प्रदूषित होने से बचाने के लिए कुछ ठोस कदम उठाना होगा! इसके साथ साथ हम सभी लोगो को भी गंगा की गंदगी को कम करने में अपना योगदान देना होगा! 

लोगो के अनुसार गंगा का जल बहुत ही पवित्र होता है! आज कल लोगो को उनके घर पर गंगा जल ऑनलाइन बुकिंग के द्वारा भेजा जा रहा है! भारत सरकार ने अभी जल्दी ही गंगा जल के लिए ऑनलाइन बुकिंग की सुबिधा निकाली है! जिसके द्वारा आप कही से भी गंगा जल को अपने घर पर मंगवा सकते है! लोगो के लिए गंगा जल इसलिए भी जरुरी है क्योकि लोग गंगा जल से भगवान की पूजा करते है! गंगा जल के अगल बगल मिलने वाले मिट्टी से दंतमंजन बनाया जाता है! 


 Ganga River को भारत की राष्ट्र-नदी कहा जाता है!  Ganga River बहुत से किसानो के आय का जरिया है! क्योकि बिना गंगा नदी के पानी के उनका खेती का कार्य कभी भी पूरा नहीं हो सकता है! जिस प्रकार से गंगा नदी सभी के लिए उपयोगी है उसी प्रकार  कभी कभी ये सभी के विनाश का कारण भी बन जाती है! बरसात के मौसम में जब बहुत ज्यादा बारिश होती है तब Ganga River अपने पुरे उफान पर होती है! और कई बार तो गंगा नदी के कारण बहुत से जगह पर बाढ़ आ गयी है! गंगा नदी के द्वारा आई गयी बाढ़ से बहुत ही भारी मात्रा में जान और माल की हानि होती है 


जिस प्रकार से Ganga River के बहुत सारे फायदे है वैसे ही इसके कुछ हानि भी है! कुछ हानियों के बाद भी गंगा नदी हम सभी के लिए बहुत उपयोगी है! गंगा नदी की सबसे बड़ी समस्या उसकी गंदगी है! कई सारी ऐसी योजना Ganga River के सफाई के लिए बनी  हैं !  लेकिन वह योजनाये केवल योजना बन कर रह गयी! भारत सरकार को Ganga River के सफाई के लिए कुछ बढ़िया कदम उठाना चाहिये! हम उम्मीद करते है की आने वाले समय में भारत सरकार के अच्छे कदम के द्वारा गंगा नदी की अच्छी तरह से सफाई होगी! 


इनको भी पढ़े-
1- Essay on Book Fair in Hindi- पुस्तक मेला पर निबंध 
2- Essay On Rainy Season in Hindi- वर्षा ऋतु पर निबंध
3- Essay On Importance Of Water in Hindi- जल का महत्व पर निबंध
4- Essay On indian Culture in Hindi- भारतीय संस्कृति पर निबंध
5- Essay On Modern Education System in Hindi- आधुनिक शिक्षा प्रणाली पर निबंध

मै उम्मीद करता हु की आपको  Essay on Ganga River in Hindi Language पसंद आया होगा! यदि आपको ये Essay on Ganga River in Hindi Language पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले!

प्रिय मित्रो यदि आपके पास भी  Ganga River Essay in Hindi से related कोई इनफार्मेशन हो तो आप उस  इनफार्मेशन को मेरे पर्सनल ईमेल  [email protected] पर भेज सकते है!. हम आपके उस इनफार्मेशन को आपके नाम और फोटो के साथ अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे!


आपके पास Essay on Ganga River in Hindi Language में और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें email करके बताये हम इसको update करते रहेंगे! अगर आपको Essay on Ganga River in Hindi Language अच्छा लगे तो इसको  facebook पर share कीजिये..


Search Tag- essay on ganga river pollution in hindi, short essay on ganga river pollution in hindi, essay on autobiography of a river ganga in hindi, essay in ganga river in hindi, essay on pollution of ganga river in hindi

Essay on Doctor in Hindi- यदि मैं डॉक्टर होता पर निबंध

 Essay-on-Doctor-in-Hindi

हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में Essay on Doctor in Hindi मतलब की यदि मैं डॉक्टर होतापर निबंध पढ़ेगें!  Doctor एक ऐसा ब्यक्ति होता है जिसको लोग धरती का भगवान कहते है! एक  Doctor भगवान से कम नहीं होता है! क्योकि  Doctor लोगो का जान बचाता है! इस आर्टिकल में यदि मैं डॉक्टर होता पर निबंध आपके साथ शेयर करूँगा! मुझे उम्मीद है की आपको Essay on Doctor in Hindi पसंद आयेगा! यदि आपको  Doctor Essay in Hindi पसंद आये तो इसको दुसरे के साथ जरुर शेयर करे! 

Essay on Doctor in Hindi- यदि मैं डॉक्टर होता पर निबंध 

इस दुनिया में बहुत से तरह के काम और धंधे है! और इस दुनिया में हर एक काम और धंधा एक मनुष्य के द्वारा ही किया जाता है! सभी काम धंधे का सीधा सम्बन्ध मानव के द्वारा ही होता है! इस दुनिया में बहुत से ऐसे भी काम है जिसको करने के लिए जोश की नहीं बल्कि होश की जरूरत होती है! एक Doctor का काम इस दुनिया में कुछ इसी तरह का होता है! जिस प्रकार भगवान लोगो को जीवन देता है ठीक उसी प्रकार एक Doctor लोगो की देख रेख करके उनकी बीमारियों को दूर करके लोगो को एक नया जीवन देता है! इस दुनिया में एक Doctor सबसे पुन्य का काम होता है! जिन लोगो की बीमारियों को Doctor ठीक करके उनकी बीमारियों दूर करते है! वह लोग उन Doctor को बहुत ही दुआ देते है! 

भगवान केवल हमको पैदा करते है! लेकिन एक Doctor हमारे शरीर की बीमारी को ठीक करके हमको जीवन देता है! इस तरह से हम Doctor को इस दुनिया के भगवान कह सकते है! कभी कभी मेरे दिमाक में भी ये सवाल  आता है की यदि मै Doctor होता तो मै भी लोगो की सेवा सच्चे मन से करता! बहुत से ब्यक्ति ऐसे होते है जिनका सपना उनके जीवन में एक Doctor बनने का होता है! दुसरे ब्यक्ति की तरह मेरा भी सपना है की मै भी एक Doctor बनू! 


जिस प्रकार से  दुनिया में दुसरे व्यवसाय है ठीक उसी प्रकार से डॉक्टर बनकर लोगो की सेवा करना भी एक तरह का  व्यवसाय है! जो Doctor लोगो की बीमारिया ठीक करते है! उसके बदले में वह उन मरीजो से थोड़े बहुत पैसे भी लेते है! भले ही Doctor बनकर लोगो की सेवा करना एक  व्यवसाय है लेकिन फिर भी ये एक बहुत ही पवित्र  व्यवसाय है! अगर प्राचीन काल की बात की जाये तो प्राचीनकाल में डॉक्टर की जगह पर बैध रहा करते थे! और वह बैद्य लोगो की सच्चे मन से सेवा करता थे और बदले लोग अपने अनुसार उनको  कुछ भी दे देते थे! मैंने बहुत सी ऐसी सच्ची  कहानिया पढ़ी है! जिसमे कई सारे ऐसे डॉक्टर भी हुए है! जिसने अपनी पूरा जीवन दुसरे की सेवा करने में बर्बाद कर दिए थे! 


यदि मै डॉक्टर होता तो मै सच्चे मन से दुसरो की सेवा करता! और जो मरीज गरीब होता और जिसके पास देने के लिए पैसे नहीं होते मै उन सभी लोगो का free में इलाज करता! यदि मेरे पास ज्यादा पैसे होते तो मै उन पैसे को दुसरे गरीब लोगो के इलाज में लगा देता! मै कभी भी किसी गरीब और निर्धन को पैसे के अभाव में किसी बीमारी से मरने नहीं देता! आज समाज में बहुत से ऐसे भी डॉक्टर है जो मरीजो से ज्यादा से ज्यादा पैसे लेने के फ़िराक में रहते है! मै ऐसा कभी नहीं करना और ना ही दुसरे को करने देता! यदि मेरे सामने कोई ऐसा करते हुए पकड़ा गया तो मै उसकी सुचना तुरंत पुलिस को देता! और उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने के लिए जोर देता! 


आज के समय में बहुत से ऐसे लोग भी रहते है जो लोगो के झांसे में आकर तरह तरह के अन्धविश्वासों में फस जाते है! ऐसे लोग जो इस तरह का अन्धविश्वासों को फैलाते है! वह उन भोले भाले लोगो से मन माँगा पैसे वसूला करते है! यदि मै डॉक्टर होता तो मै किसी को भी तरह तरह के अन्धविश्वासों में लोगो को नहीं फसने देता ! और जो लोग अन्धविश्वास को लोगो के अंदर फैलाते है! उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने के लिए पूरा जोर देता! इसके साथ साथ मै लोगो के पास जाकर लोगो को ये समझने की कोशिश करता की ये सभी तरह के अन्धविश्वास पर आपको विश्वाश नहीं करना चाहिये! ये सभी तरह की अन्धविश्वासो झूठ होती है! और ये सब केवल आपके पैसे को पाने के लिए किया जाता है! यदि मै डॉक्टर होता तो मै लोगो के अंदर से  अन्धविश्वासों को दूर करने का पूरा प्रयास करता! 


यदि मै एक डॉक्टर होता तो मै अपने हॉस्पिटल में हर एक दवा और दुसरे चीज़ को बहुत ही उचित और कम दाम पर लोगो को बेचता इसके साथ साथ मै अपने हर एक मरीज का बहुत ही अच्छी तरह से इलाज करता! आज के समय में कई ऐसे भी डॉक्टर है जो एक छोटी सी  बीमारी होने पर ज्यादा पैसे कमाने के लिए तरह तरह के टेस्ट करने के लिए कहते है! लेकिन मै ऐसा बिलकुल भी नहीं करता! मै अपने मरीजो को केवल वही सभी टेस्ट करने के लिए बोलता जो जरुरी होता! मै अपने मरीजो का अपने ऊपर से विश्वास कभी नहीं तोड़ता क्योकि मेरे लिए मेरे मरीज ही मेरे सब कुछ होते! आज जिस तरह से मरीजो के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है! यदि मै डॉक्टर होता तो मै कभी भी किसी भी मरीज के साथ किसी भी तरह का कोई भी खिलवाड़ नहीं करता! 


कुछ लोगो के किये गए कार्य की वजह से सभी  डॉक्टर लोग को बदनाम होना पड़ रहा है! एक डॉक्टर होने के नाते मै भी सभी की तरह सुख पाने की कोशिश करता लेकिन मै अपना ये सपना अपने मरीजो के साथ बुरा काम करके नहीं पूरा करता! आज के डॉक्टर भले ही इतने पढ़े लिखे है! फिर भी उनके द्वारा किया गया काम उनको एक ऐसा इंसान बनाता है! जो किसी भी तरह से इस दुनिया में रहने लायक नहीं है! 


क्या फायदा है इतनी पढाई का जब हम मरीजो के साथ धोके बाजी कर रहे है! क्या फायदा इतनी पढाई जो एक डॉक्टर बिना किसी वजह का मरीजो को लूट रहे है! अगर बनना ही है तो एक अच्छा डॉक्टर बन कर दिखाए! सभी मरीजो को सच्चे मन से उनकी बीमारी ठीक करने में अपना पूरा सहयोज करे! बिना किसी वजह के किसी भी मरीज से ज्यादा पैसे ना ले! यदि आप ऐसा करते है तब आप एक अच्छे डॉक्टर कहलायेगें! और सभी लोग आपकी इज्जत भी करेगें! यदि मै डॉक्टर होता तो मै पैसे के लिए नहीं बल्कि सम्मान और इज्जत के लिए लोगो की बीमारी का इलाज करता! यदि आप एक डॉटर है तो आपको भी लोगो के साथ एक डॉक्टर जैसा ब्यवहार करना चाहिये! 


इनको भी पढ़े- 
1- Essay on Police in Hindi- पुलिस पर निबंध 
2- Essay On Importance Of Education in Hindi- शिक्षा का महत्व पर निबंध
3- Essay on AIDS in Hindi- एड्स पर निबंध
4- Essay on Discipline in Hindi- अनुशासन पर निबंध
5- Essay on Dowry System in Hindi- दहेज़ प्रथा पर निबंध 

मै उम्मीद करता हु की आपको Essay on Doctor in Hindi पसंद आया होगा! यदि आपको ये Essay on Doctor in Hindi  Language पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले!

प्रिय मित्रो यदि आपके पास भी  Essay on Doctor in Hindi  से related कोई इनफार्मेशन हो तो आप उस  इनफार्मेशन को मेरे पर्सनल ईमेल  [email protected] पर भेज सकते है!. हम आपके उस इनफार्मेशन को आपके नाम और फोटो के साथ अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे!


आपके पास Essay on Doctor in Hindi  Language में और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें email करके बताये हम इसको update करते रहेंगे! अगर आपको  Essay on Doctor in Hindi अच्छा लगे तो इसको  facebook पर share कीजिये.


Essay On Modern Education System in Hindi- आधुनिक शिक्षा प्रणाली पर निबंध


Essay On Modern Education System in Hindi- आधुनिक शिक्षा प्रणाली पर निबंध


हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में Essay On Modern Education System in Hindi मतलब की आधुनिक शिक्षा प्रणाली पर निबंध को पढ़ेगें! किसी भी देश की शिक्षा उस देश के विकास में बहुत बड़ा योगदान निभाती है! जिस देश की  शिक्षा दर अधिक होता है उस देश का विकास भी तेजी से होता है! आज हम इस आर्टिकल में भारत की Modern Education System के बारे में बात करेगें! मै उम्मीद करता हूँ की आपको Modern Education System Essay in Hindi पसंद आयेगा! यदि आपको  Modern Education System in Hindi पसंद आय तो इसको अपने दोस्तों के साथ  शेयर करे! 

Modern Education System का मतलब है की स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत में शिक्षा के तौर तरीके! अंग्रेजो के शासन काल में देश की शिक्षा प्रणाली अंग्रेजो के रूचि पर आधारित थी! अंग्रेजो के शासन काल में अंगेजी अनिवार्य और बोझिल थी! जब से हमारा भारत देश आजाद हुआ तब से उसी पूरानी शिक्षा प्रणाली पर पठन पठान होता रहा है! आज भी हमारे भारत देश में वही घिसी पिटी पुरानी शिक्षा प्रणाली चल रही है! आज की Education System केवल डिग्री हासिल करने के लिए है! इसका व्यवहारिक शिक्षा से कुछ भी लेना देना नहीं है! 


Modern Education System  की शुरुवात अंग्रेजो के शासन काल में हुआ था! जब अंग्रेज भारत में आये थे तब वह भारतीयों के साथ विचार का आदान प्रदान करने के लिए ऐसी भाषा के माध्यम से अपेछा थी, जो उनके अनुकूल होती! इसके लिए अंग्रेज ने पाश्च्या सभ्यता की शिक्षण संस्थाए आरम्भ की! उस समय भारतीय कला और संस्कृति से सम्बन्धित विषयों पर कम महत्व दिया जाने लगा और स्टूडेंट में  पाश्च्या सभ्यता के प्रति एक विशेष आदर की भावना जन्म देने का कुचक्र रचा गया! उस समय भारतीयों के पास इसको करने के सिवा कोई और चारा नहीं था इसलिए उनको मजबूती में ऐसा करना पड़ा! लार्ड मैकाले ने अंग्रेजी भाषा को राष्ट्रभाषा घोषित किया और उसको स्कूलों में अनिवार्य कर दिया! इसका परम उद्देश भारत में क्लर्को का उत्पादन करना था! 


भारतीय मनीषियों ने शिक्षा का मूल ध्येय मनुष्य को मनुष्य और पुन: देवता बनाना बताया है! यही हमारे जीवन में आत्मगौरव , स्वावलंबन , ज्ञानार्जन , ब्रह्मचर्य, दया छमा ,स्नेह , सहानभूति , परोपकारी एवं कर्तव्य पालन की छमता आदि गुणों को जगाती है! अत: उनमे न तो ज्ञान की गरिमा है ना रूप सुन्दरता का आकर्षण , न चरित्र का उत्कर्ष है और ना ही व्यवहार कुशलता! उनमे परस्पर स्नेह का अभाव है! आज के स्टूडेंट में अनुशासनहीनता .ज्ञान शुन्यता , फैशन - परस्ती तथा अवगुणों का बोलबाला है! उनमे माता पिता और गुरु के पति कर्तव्य पालन का बोध तथा जीवन का ऊचादर्शा भी नहीं है! 


Modern Education System से चरित्रहिनो एवं बेरोजगारों की एक भीड़ पैदा हो रही है! वर्तमान शिक्षा पद्धति डॉक्टर , इंजीनियर, नेता आदि तो बनाती है लेकिन एक आदमी नहीं नहीं बन पाती! वर्तमान शिक्षा पद्धति से तैयार इंजीनियर या फिर डॉक्टर पहले स्वयं धन की कामना करता है! फिर दुसरे के हित का सोचता है! 


Modern Education System  में आमूल परिवर्तन की जरूरत है! शिक्षा सर्जनात्मक होनी चाहिये! ताकि स्टूडेंट को पढाई करने के बाद नौकरी खोजने की जरूरत ना पड़े बल्कि वह स्वयं लोगो के लिए नौकरी का सृजन करे! Education System ऐसी होनी चाहिये जिसे प्राप्त करने के बाद स्टूडेंट में समाज सेवा , राष्ट्र प्रेम एवं त्याग की भावना कूट कूट कर भर जाये और वे सम्पूर्ण मानवता की सीख देकर समाज तथा देश को विकशित कर सके! 


वर्तमान में भारत में 10+2+3 Education System प्रचलित है! शिक्षा में आवश्यक परिवर्तन का सुझाव देने के लिए कोठारी आयोज का गठन किया गया था! 1996 में उन्होंने अपनी रिपोर्ट दे दी थी! उसी को फिर खड़ा किया जा रहा है! अभी भारत में एन.सी. आर. टी. सी.बी.एस. ई. और आई. सी. एस. ई. के आधार पर शिक्षा दी जाती है! कुछ समय पूर्व ये मांग की गयी थी  की शिक्षा को समवर्ती सूची में रखा जाय ताकि केंद्र सभी प्रान्तों में समान  पद्धति, नियम , सेवा-योजना , और पाठ्यक्रम आदि लागु कर सके! 


Modern Education System  में सुधार के लिए ये जरुरी है की शिक्षा को नौकरी प्राप्त करने का साधन मानने की बात को सबसे पहले खत्म की जाय! नौकरी के लिए उस विशेष बिभाग की दछता को आपेछित योग्यता समझा जाय! जिसमे उसे कार्य करना है! तभी उच्चतर बिद्यालय के दो वर्षीय पाठ्यक्रम में स्टूडेंट रोजगार परक पशिक्षण ईमानदारी से ग्रहण करेगें! और  10+2+3 शिक्षा व्यवस्था कुछ लाभदायक सिद्ध होगी! शिक्षा के लिए विश्वबिद्यालय बीड को दूरस्थ शिक्षा परियोजना द्वारा कम किया जा सकता है! 


इनको भी पढ़े- 
1- Essay on Library in Hindi- पुस्तकालय पर निबंध
2- Beti Bachao Beti Padhao in Hindi- बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर निबंध 
3- Essay On Importance Of Education in Hindi- शिक्षा का महत्व पर निबंध
4- Samay Ka Mahatva Essay in Hindi- समय के महत्व पर निबंध
5- Essay On Importance of Book in Hindi- पुस्तकों के महत्त्व पर निबंध

मै उम्मीद करता हु की आपको  Essay On Modern Education System in Hindi पसंद आया होगा! यदि आपको ये Essay On Modern Education System in Hindi पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले!

प्रिय मित्रो यदि आपके पास भी  vartman shiksha pranali essay in hindi से related कोई इनफार्मेशन हो तो आप उस  इनफार्मेशन को मेरे पर्सनल ईमेल  [email protected] पर भेज सकते है!. हम आपके उस इनफार्मेशन को आपके नाम और फोटो के साथ अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे!


आपके पास  Modern Education System in Hindi  में और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें email करके बताये हम इसको update करते रहेंगे! अगर आपको  Essay On Modern Education System in Hindi  अच्छा लगे तो इसको  facebook पर share कीजिये.


Essay On indian Culture in Hindi- भारतीय संस्कृति पर निबंध

Essay-On-indian-Culture-in-Hindi

हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में Essay On indian Culture in Hindi मतलब की भारतीय संस्कृति पर निबंध को पढ़ेगें! भारत दुनिया का एक ऐसा देश है जो अपनी संस्कृति और सभ्यता के कारण पूरी दुनिया में जाना जाता है! इसके साथ साथ भारत एक ऐसा देश भी है जहाँ पर हर धर्म और जाति के लोग बिना किसी भेद भाव के रहते है! इस दुनिया में भारत को उसकी संस्कृति और सभ्यता के लिए एक अलग देश के रूप में देखा जाता है! हमारे भारत देश में बहुत ही तरह तरह के संस्कृति और सभ्यता का उदय हुआ है! आज हम भारतीय संस्कृति को एक निबंध के रूप में पढेंगें! मुझे उम्मीद है की आपको bhartiya sanskriti par nibandh पसंद आयेगा! यदि आपको essay on bhartiya sanskriti पसंद आये तो इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले! 

Essay On indian Culture in Hindi- भारतीय संस्कृति पर निबंध

नाना प्रकार की धार्मिक साधनाओं , कलात्मक , प्रयत्नों , सेवा भक्ति और योगमूलक अनुभूतियो से मानव उस महान सत्य के ब्यापक एवं परिपूर्ण रूप को धीरे धीरे करता जा रहा है! जिसे हम संस्कृति शब्द द्वारा व्यक्त करते है! यह शब्द बहुत ही अधिक प्रचलित है! हर एक ब्यक्ति अपनी रूचि और संस्कार के अनुसार इसका अर्थ समझ लेता है! क्योकि संस्कृति शब्द संस्कृति बिलकुल स्पस्ट है! हम ऐसा भी नहीं कह सकते है क्योकि हर एक मानव जानता है की उसकी साधनाये ही संस्कृति है! संस्कृति सही अर्थ में विकाश की धारा है!

संस्कृति और सभ्यता में बहुत ही गहरा सम्बन्ध है! जिस जाति की संस्कृति उच्च स्तर की होती है वह जाति सभ्य कहलाती है! और मानव सुसंस्कृत माने जाते है! दुसरे शब्दों में कहा जा सकता है की जो सुसंस्कृत है वही सभ्य है और जो सभ्य है वही सुसंस्कृत है! इन दोनों में बहुतस भेद है! हर एक जाति की अपनी अपनी अलग अलग संस्कृति होती है! यह संस्कृति अच्छी या फिर बुरी कुछ भी हो सकती है! लेकिन सभ्यता हमेशा अच्छी ही होती है! कहने का मतलब ये है की सभ्यता के भीतर बहने वाले धारा को ही संस्कृति कहते है! 


संस्कृति का विकाश देश की प्राकृतिक दशा , उपज और जलवायु पर भी निर्भर करता है! हमारे रहन सहन एवं आचार विचार सब पर प्रकृति का प्रभाव पड़ता है! उच्च स्तर की संस्कृति निम्न स्तर की संस्कृति को प्रभावित करती है! लेकिन उसे आत्मसात नहीं कर पाती! उदाहरण के लिए आर्य जाति की संस्कृति से हुण, कुषाण एवं शक आदि अन्य जातियाँ बहुत प्रभावित हुई! इन सभी ने भारतीय संस्कृति की उत्तम बातो की ग्रहण किया था!  


संस्कृति और धर्म में अंतर है! धर्म ब्यक्तिगत होता है और ये आत्मा और परमात्मा के सम्बन्ध का माध्यम है! संस्कृति समाज से सम्बंधित होने के कारण आपसी ब्यवहार माँ माध्यम है! संस्कृति धर्म से प्रेरणा लेती है! और उसे प्रभावित करती है! यदि धर्म ये सरोवर है तो संस्कृति उसमे कमल है!


भारतीय संस्कृति आत्मा को मुख्य और शरीर को गौण मानती है! शरीर और मन की को साफ रखना भी जरुरी है! जब तक मानव का मन बाहर से और अंदर से साफ़ नहीं होगा तब तक वह गलत चीज़ को भी सही मानेगा! भारतीय संस्कृति का विकास धर्म का आधार लेकर हुआ है तभी उसमे दृढ़ता है! 


परम्परागत भारतीय विश्वासों के अनुसार मनुष्य देव ऋण, ऋषी ऋण, तथा पिता ऋण लेकर संसार में आता है! अधिकाशं लोगो को ये धारणा है की बिना इन ऋण को चुकाये मानव साधना का अधिकारी नहीं बन सकता! भारतीय मनीषियों ने इन ऋण को चुकाने का भी उपाय बताया है! इसका उपाय ये है मानव इन ऋण को ऋण के रूप में ग्रहण करे और अपने पूर्वजो के परम्परा को आगे बढ़ाये! जल बरसाने वाला मेघ , अन्न उपजाने वाली धरती और प्रकाश देने वाला सूर्य हमे अनायास प्राप्त हो गए है! इनको देवता माना गया है! इनके ऋण से मुक्त होने के लिए हमको बाट कर खाना चाहिये! ऋषीयो के ऋण से मुक्त होने के लिए हम ज्ञान की धारा ही हिफाजत करे! और उसको आगे बढ़ाये!


भारतीय संस्कृति में कर्तव्य , संचय , बैराग आदि पर विशेष बल दिया गया है! हमारे पतन का केवल एक ही कारण दृष्टिगोचर होता है! वह है अपने उच्च आदर्शो की बिस्मुती! भारतीय संस्कृति  ब्यक्ति को ब्यक्तित्व देकर उसे महान कार्य करने की प्रेरणा देती है! और उन्ही कार्यो द्वारा हम अपनी संस्कृति की धारा को महान बनाये रख सकते है! 


इनको भी पढ़े-
1- Essay on Dowry System in Hindi- दहेज़ प्रथा पर निबंध 
2- Essay on Child Labour in Hindi- बाल मजदूरी पर निबंध
3- Essay on Indian Election in Hindi- भारतीय चुनाव पर निबंध
4- Essay on Save Trees in Hindi- पेड़ बचाओ पर निबंध
5- Essay on Black Money in Hindi- काला धन पर निबन्ध

मै उम्मीद करता हु की आपको Essay On indian Culture in Hindi पसंद आया होगा! यदि आपको ये indian Culture Essay in Hindi Language पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले!

प्रिय मित्रो यदि आपके पास भी  Essay On indian Culture in Hindi से related कोई इनफार्मेशन हो तो आप उस  इनफार्मेशन को मेरे पर्सनल ईमेल  [email protected] पर भेज सकते है!. हम आपके उस इनफार्मेशन को आपके नाम और फोटो के साथ अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे!


Search Tag- essay on indian village culture in hindi, essay on indian culture and civilization in hindi, essay on indian culture vs western culture in hindi, an essay on indian culture in hindi, essay on indian culture and heritage in hindi, essay on importance of indian culture in hindi, short essay on indian culture in hindi, essay on indian culture and tradition in hindi