Tsunami Essay in Hindi – सुनामी पर निबंध

Tsunami Essay in Hindi


हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में Tsunami Essay in Hindi मतलब की सुनामी पर निबंध को पढ़ेगें ! "सुनामी " शब्द को आपने बहुत बार सुना होगा! सुनामी एक बहुत ही भयंकर प्राक्रतिक आपदा है! सुनामी में समुंदर में बहुत ही बड़ी बड़ी लहरे उठती है! और इन लहरों के बीच पड़ने वाले हर एक चीज़ को एक लहरे तबाह कर देती है! दुनिया में बहुत से ऐसे देश है जहाँ पर सुनामी आई हुई है! अगर भारत की बात करे तो भारत देश में २004 में एक बहुत ही भयंकर सुनामी आई थी! इस सुनामी में बहुत ज्यादा लोग मरे गए थे! इसके साथ साथ बहुत ही ज्यादा जन और धन दोनों का नुकसान हुआ था! 2004 में जो सुनामी भारत में आया था वह भारत में आया सबसे भयंकर सुनामी था! 

Tsunami Essay in Hindi – सुनामी पर निबंध


सुनामी एक जापानी शब्द है! सुनामी दो शब्द सु और नामी से मिलकर बना है! सु का अर्थ बन्दरगाह और नामी का अर्थ लहर होता है! कुछ लोग सुनामी लहरों का सम्बन्ध ज्वारीय लहरों से जोड़ते है! लेकिन ये बात भी सही है की सुनामी लहरे ज्वारीय लहरे नहीं होती है! 

सुनामी तरंगो की एक ऐसी श्रखला है जो पानी के अंदर हलचल मचने पर जल स्थाम्भ के विस्थापन से उठती है! इसकी चपेट में निचले तटवर्ती इलाके आ जाते है! ज्वारीय लहरों की भाति सुनामी लहरे भी कभी अकेले नहीं आती है! सुनामी लहरे 5 से 10 मिनट के अन्तराल में एक के बाद एक आकर तबाही मचाती है! अगर बात की जाये खुले और गहरे समुंदर में तो  खुले और गहरे समुंदर में सुनामी लहरे विनाशकारी नहीं होती है! जैसे जैसे ये तटीय एरिया में आती है वैसे वैसे इसका विनाश का रूप बढता जाता है! अब सवाल ये उठता है की आखिर सुनामी लहरे कैसे और किन किन कारण की वजह से उठती है! तो इसके कई कारण है जिनमे से मै आपको कुछ कारण के बारे में बताता हु! 

* जब सागर में उठा पटक की शक्ति जल स्तंभ को उठा देती है! 
* जब समुंदर तल में उठा पटक से ऊपर की हलचल मचती है! 
* जब गुरुत्वाकार्सन प्रभाव से जल में ऊपर से हलचल बढती है! 

जब सुनामी लहरे आती है तो ये इतनी खतरनाक होती है की लोग इसको एक तरह से टाइम बम कहकर पुकारते है! ये सुनामी लहरे गोल तरंगो के रूप में एक के बाद एक जल के स्पर्श बिंदु से निकलकर चारो तरफ प्रसारित होती है! स्पर्श बिंदु से निकलते समय इन तरंगो की मोटाई काफी कम होती है! किन्तु जैसे जैसे ये लहरे किनारे तक जाती है वैसे वैसे इसकी उचाई और मोटाई बढती जाती है! जब समुंदर के किसी एरिया में बहुत शक्तिशाली भूकंप आता है! तो जल के उपरी सतह पर केन्द्रीय बिंदु से कुछ cm लम्बी जल की गोल तरंगे निकलकर आगे प्रसारित होने लगती है! ये तरंगे उत्पति के समय हानिकारण नहीं होती है! लेकिन जैसे जैसे ये छिछले जल वाले तटवर्ती एरिया की तरफ बढती है! वैसे वैसे विनाशक हो जाती है! ये सब कुछ अपने में समेट लेती है! 

सुनामी लहरे जेट बिमान से भी अधिक तेज चलती है! भूकंप के झटको से लचीली तरंगे उत्पन्न होकर ठोस धरती पर गतिशील हो जाती है! यह स्तिथी जब समुंदर के भीतर या समुंदर के तटवर्ती एरिया में उत्पन्न होती है तो भूकंप के केंद्र पर समुंदर की आन्तरिक सतह तेजी से ऊपर उठती है! और पुनः अंदर जाती है! भूकंप से मुक्त हुई निचे की उर्जा समुंदर के जल को समान्य स्तर से ऊपर उठाकर गतिज उर्जा में परिवर्तित हो जाती है! तथा इन तरंगो को धक्का देकर आगे प्रसारित करने लगती है! कुछ समय के बाद गतिज उर्जा से ओत प्रोत तरंगे सुनामी लहरे के रूप में बदल जाती है! 

ये लहरे अपने मार्ग में आने वाली हर एक चीज़ को नष्ट करते हुए! आगे बढ़ने लगती है! गहरे समुंदर जल में उत्पन्न सुनामी लहरे की वेब लेंथ 500 KM से अधिक होती है! यानी की सुनामी लहरे 500 मील प्रति घंटे की गति से आगे बढती है! इस प्रकार से ये लहरे जेट बिमान की गति को भी पीछे छोड़ सकती है! और 24 घंटे में पुरे समुंदर को आर पार कर सकती है! 

इसमें कोई शक नहीं है की जहाँ पर सुनामी लहरे आती है वहां पर हर एक जगह तबाही ही तबाही होता है! दुनिया में ऐसी बहुत से जगह है जहा पर बहुत ही भयंकर भयकर सुनामी लहरे आई है! जहा पर सुनामी लहरे आती है वहां पर वह पुरे तबाही मचा देती है! सुनामी लहरों से जन और धन दोनों को बहुत ज्यादा नुकसान होता है! समुंदर के किनारे पर बसे शहरो को सुनामी लहरों से सबसे ज्यादा खतरा होता है! क्योकि सुनामी लहरों का सबसे पहला असर समुंदर के किनारों के सहरो के ऊपर पड़ता है! जब भारत के सुनामी लहर आई थी उस समय सबसे ज्यादा नुकसान समुंदर के किनारे वाले शहरो पर हुआ था! और उस सुनामी में अपार मात्रा में जन और धन दोनों का नुकसान हुआ था! सुनामी एक प्राक्रतिक आपदा है इसपर मानव का कोई control नहीं होता है! सुनामी लहरे कभी भी आ सकती है इसका कोई फिक्स समय नहीं तय होता है! इसलिए हम सभी लोगो को मिलकर भगवान से ये प्रार्थना करना चाहिये की हमारे इस सुंदर देश में कभी भी सुनामी लहर ना आये और हमारे भारत देश की सुन्दरता ऐसे ही बनी रहे! 

इनको भी पढ़े–
1– Essay On Rainy Season in Hindi- वर्षा ऋतू पर निबन्ध
2– Essay On Importance Of Water in Hindi – जल के महत्व पर निबंध
3– Importance Of Trees in Hindi | वनों की उपयोगिता पर निबंध
4– Essay on Ganga River in Hindi Language- गंगा नदी पर निबंध
5– Essay On Mango Tree in Hindi- आम के पेड़ पर निबंध

मै उम्मीद करता हु की आपको Tsunami Essay in Hindi पसंद आया होगा! यदि आपको ये Tsunami Essay in Hindi Language पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले!

प्रिय मित्रो यदि आपके पास भी Tsunami in Hindi से related कोई इनफार्मेशन हो तो आप उस  इनफार्मेशन को मेरे पर्सनल ईमेल  [email protected] पर भेज सकते है!. हम आपके उस इनफार्मेशन या आर्टिकल को आपके नाम और फोटो के साथ अपने वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे!

आपके पास मैं  long essay on tsunami in hindi और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें email करके बताये हम इसको update करते रहेंगे! अगर आपको tsunami information in hindi for students अच्छा लगे तो इसको  facebook पर share कीजिये.

Search Tag– tsunami in hindi essay, tsunami poem in hindi, tsunami in hindi article, about tsunami in hindi, article on tsunami in hindi language, all about tsunami in hindi, know about tsunami in hindi, what is a tsunami in hindi, tsunami se bachav in hindi, how to come tsunami in hindi, tsunami definition in hindi, explain tsunami in hindi, tsunami short essay in hindi, tsunami facts in hindi, tsunami kya hai in hindi, tsunami in hindi information, sunami lahar information in hindi, tsunami ka hindi, tsunami ka kahar in hindi